Shiv Chalisa in Hindi & English (with Meaning, Method & Benefits)

Shiv Chalisa in English with Meaning | Shiva Chalisa Lyrics in English

Jai Ganesh Girija suvan,
Mangal mool sujan.
Kahit Ayodhya das tum,
dehu abhay vardan.
(Victory to Lord Ganesha – the song of Girija,
Who is the origin of all that is good,
Ayodhya das requests you for,
the boon of fearlessness.)

—– English Lyrics Continued Below —–

You can also jump to…

————————————————-

Jai Girijapati deen dayala,
Sada karat santan pratipala.
(Victory to the consort of Girika (Lord Shiva) who is always kind to the distressed,
And always bestows his blessings upon saints.)

Bhaal chandrama sohat neeke,
Kanan kundal naag phani ke.
(You wear the baby moon on your forehead,
And for ear-rings you wear the snake’s hood.)

Ask Sai Baba

Ang gaur, shir gang bahaaye,
Mundamaal tan chhor lagaaye.
(He has a fair complexion and the river Ganga flows from his forehead,
He wears a garland made of skulls and smears his body with ash.)

Vastra khal baagambar sohe,
Chhavi ko dekh naag muni mohe.
(For clothes, he wears the skin of a lion,
And the sight of his image enchants the Naga sages.)

Maina maatu ki havae dulaari,
Bam ang sohat chhavi nyaari.
(The dear daughter of Mother Maina,
Sits to your left adding beauty to your image.)

Kar trishul sohat chhavi bhari,
Karat sadaa shatrun kshayakari.
(Holding a trident in your hand and dressed in a lion’s skin,
You always defeat your enemies.)

Nandi Ganesh sohain tahan kaise,
Sagar madhya kamal hai jaise.
(You always accompany Nandi and Lord Ganesh,
And resemble a lotus growing in the middle of an ocean.)

Kartik shyam aur ganarau,
Ya chhavi ko kahi jaat na kau.
(As Kartik with his dark skin and Lord Ganesh accompany you,
Nobody can describe the immaculacy and divinity of this image.)

Devani jabhi jaay pukara,
Tabahin dukh Prabhu aap nivara.
(Whenever the Gods call for victory in your name,
On all such occasions you have cured them of their sorrows.)

Kiya upadrav Tarak bhari,
Devan sab mili tumhin juhari.
(When demon Tarakasura weighed down on the Gods causing them immense trouble,
All the Gods came together to seek your help.)

Turant shadanan ap pathayau,
Lav nimesh mahan mari girayau.
(Immediately, you sent them to seek the six-faced God,
Who, without delay, brought about the death and fall of Tarakasura.)

Aap jalandhar asur sanhara,
Suyash tumhar vidit sansara.
(You also killed the demon Jalandhar,
And your name and fame spread quickly across the entire world.)

Tripurasur sang yudh machai,
Sabahin kripa kari linh bachai.
(You also waged a war against the demon Tripurasura,
And showing mercy you saved all Gods.)

Kiya tapahin Bhagirath bhari,
Purab pratigya taasu purari.
(King Bhagirath undertook great penance,
And you helped him to fulfil his vows.)




Daanin mahan tum sam kou nahin,
Sevak stuti karat sadai.
(There is no one as charitable as you, oh Lord.
Your devotees have thoughts of you in their minds constantly.)

Ved nam mahima tab gai,
Akath anadi bhed nahin pai
(The great Vedas have tried to describe your glory,
But, oh Limiteless Lord, even they have failed to capture your entire essence.)

Pragat udadhi manthan mein jwala,
Jare surasur bahe bihala.
(The ocean churned and from it arose the flame…
…made of poison that equally frightened both the Gods (devas) & demons(asuras).)

Dindayal tahan kari sahai,
Nilkanth tab nam kahai.
(And then, as the one who shows mercy on all, you swallowed the poison turning your throat blue,
And from then on you were called Neelkanth – the one with the blue throat.)

Pujan Ramchandra jab kinha,
Jit ke Lanka Vibhishan dinha.
(When Lord Rama worshipped you,
He won the Lanka and handed it to Vibhishan – the brother of Ravana)

Sahas kamal men ho rahe dhari,
Kinha pariksha tabahi purari
(He wanted to dedicate a thousand lotuses to you in worship,
And that is when you decided to test his devotion.)

Ek kamal prabhu raakhau johi,
Kamal nayan pujan chahan soi
(Oh Lord Shiva, you decided to take away one of those Lotuses,
And unable to find it Lord Rama offered one of his eyes to you instead during the worship.)

Kathin bhakti dekhi Prabhu Shankar,
Bhaye prasan diye ichhith var.
(Seeing his great devotion, oh Lord Shankar,
You were very delighted and granted his desires.)

Jai Jai Jai Anant avinashi,
Karat kripa sab ke ghat vasi.
(Victory, victory, victory to you, oh Unlimited and Indestructible Lord,
Please show mercy upon us all, you who is present in every place in the Universe.)

Dusht sakal nit mohi satavaen,
Bhramat rahe mohi chain na aavaen.
(Evil thoughts trouble me every day,
I am highly distressed and cannot find peace.)

Trahi trahi main nath pukarun,
Yahi avasari mohi, aani ubaro.
(Help me, Help me, I call upon you oh Lord,
At this very moment, I beg you to bless me.)

Lai trishul shatrun ko maro,
Sankat se mohi aan ubaro.
(Bring your trishul and kill my enemies,
And free me from all kinds of troubles.)

Maatu pita bhrata sab koi,
Sankat men puuchhat nahin koi.
(I have a Mother, Father, Brothers and Other relatives,
But when I am in trouble no one can save me.)

Swami ek hai aas tumhari,
Aay harahu ab sankat bhari.
(Oh Lord, you are my last hope,
Please come and take away everything that heavily troubles me.)

Dhan nirdhan ko det sadahi,
Jo koi jaanche wo phal pahin.
(You always bless the poor with wealth,
Whoever chants your name receives the fruits of devotion.)

Astuti kehi vidhi karaun tumhari,
Shamahu nath ab chuuk hamari.
(How do I remember and worship you, oh Lord (with my limited knowledge),
Please forgive my faults, oh Bholenath)

Shankar ho sankat ke nashan,
Mangal kaaran vighna vinashan.
(You are Lord Shankar – the destroyer of sorrows,
The one who grants positive things and destroys obstacles.)

Yogi yati muni dhyan lagavain,
Narad Sharad sheesh nawavain.
(Sages, seers and saints meditate on your,
Even Lord Narada and Goddess Saraswati bow before you.)

Namo, namo jai namo Shivay,
Sur Brahmadik paar na paay.
(I salute you, I salute you, victory and salutations to you, oh Lord Shiva,
Even Gods & Brahmans cannot describe you.)

Jo yah path kare man lai,
Taapar hot hain Shambhu sahai.
(Whoever recites this prayer in his mind,
He will doubtlessly win the support and help of Lord Shambhu.)

Rinya jo koi ho adhikari,
Path kare so paavan-hari.
(Anyone who recites this prayer with intense love,
Will gain prosperity through the chanting of this prayer to Lord Shiva)

Putraheen kar ichchha koi,
Nishchai Shiv prasad tehi hoi
(When a child-less person asks for a progeny,
Lord Shiva certainly grants him a child.)

Pandit trayodashi ko lavain,
Dhyan purvak horn karavain.
(He who appoints a Pandit on the thirteenth day of the moon,
And has a sacrifice conducted with pure focus…)

Tryodashi vrat kare hamesha,
Tan nahin taake rahe kalesha.
(He who always observes the fast on the thirteenth day of the moon,
Would be blessed with a body untouched by illness and his mind will be forever peaceful.)

Dhup deep naived chadhavai,
Shankar sanmukh path sunavai.
(He who worships Lord Shiva with fire-lamps and incense,
And recites this prayer before the beautiful visage of Lord Shankara…)

Janma Janma ke paap nashave,
Antvaas Shivpur mein pave.
(…Will have the sins of all his lives erased,
And find his life’s final refuge in the city of Lord Shiva.)




Kahe Ayodhya aas tumhari,
Jaani sakal dukh harahu hamari.
(Ayodhya Prasad, wishes to you oh Lord,
To bless us with a long life and take away all our sorrows.)

DOHA
Nitya Name kar prataha hi,
Patha karau chalees.
Tum meri mano kamana,
Purna karahu Jagadish.
(After fulfilling all the duties of the day,
I recite this forty verse prayer.
Please take all my wishes into consideration,
And fulfil them, oh lord Jagadish.)

Magsar chathi hemant ritu,
Samvat chousath jaan.
Astuti chaleesa shivahi,
Poorn keen kalyaan.
(Meditation on the Shiv Chalisa,
Helps one obtain complete fulfilment.
Please bless me, oh Lord Shiva,
So all my spiritual & material desires are fulfilled.)

Praise the power of Lord Shiva. Type ‘Om Namah Shivaay’ here.

Shiv Chalisa in Hindi | Shiva Chalisa Lyrics in Hindi

॥ दोहा ॥
श्री गणेश गिरिजा सुवन, मंगल मूल सुजान।
कहत अयोध्यादास तुम, देहु अभय वरदान॥

( जय हो गणेश जी की जो गिरीजा के गाने जैसे हैं ।
और जो सब अच्छाई के मूल हैं ॥ )

—– हिंदी में बोल नीचे जारी हैं —–

You can also jump to…

———————————————

जय गिरिजा पति दीन दयाला।
सदा करत सन्तन प्रतिपाला॥

( जय हो गिरीजा के पति भगवान शिव की जो हमेशा ही अपने पीड़ित भक्तों पे कृपा करते हैं ।
और हमेशा ही संतो को अपना आशीर्वाद देते हैं ॥ )

भाल चन्द्रमा सोहत नीके।
कानन कुण्डल नागफनी के॥

( आप चन्द्रमा को अपने सर पर पहनते हैं ।
और एक साँप का सर आपके लिए कान की बाली की तरह है ॥ )

Shirdi Sai Baba answers your questions

अंग गौर शिर गंग बहाये।
मुण्डमाल तन छार लगाये॥

( आपकी त्वचा गोरे रंग की है और गंगा नदी का मूल आपके सिर से होता है ।
आप कपालों से बनी माला पहनते हैं और आपका शरीर राख से लिप्त है ॥ )

वस्त्र खाल बाघम्बर सोहे।
छवि को देख नाग मुनि मोहे॥

( एक शेर की खाल आपका वस्त्र है ।
और आपको देखते ही सारे नाग मुनि ख़ुशी से पिघल जाते हैं ॥ )

मैना मातु की ह्वै दुलारी।
बाम अंग सोहत छवि न्यारी॥

( माता मैना की दुलारी बेटी ।
आपके बगल में बैठते हुए आपकी छवि को अत्यधिक सुन्दरता से भर देतीं हैं ॥ )

कर त्रिशूल सोहत छवि भारी।
करत सदा शत्रुन क्षयकारी॥

( हाथ में त्रिशूल पकड़कर और शेर की खाल पहन कर ।
आप हमेशा ही अपने शत्रुओं का नाश करते हैं ॥ )

नन्दि गणेश सोहै तहँ कैसे।
सागर मध्य कमल हैं जैसे॥

( आप हमेशा ही नंदी और भगवान गणेश का साथ देते हैं ।
और आप सागर के बीच में खिलते हुए कमल की तरह हैं ॥ )

कार्तिक श्याम और गणराऊ।
या छवि को कहि जात न काऊ॥

( सांवले रंग के भगवान कार्तिक और भगवन गणेश हमेशा आपके साथ होते हैं ।
और इस छवि का वर्णन करना असंभव है ॥ )

देवन जबहीं जाय पुकारा।
तब ही दुख प्रभु आप निवारा॥

( जब भी देवताओं ने आपका नाम पुकारते हुए सफलता की इच्छा की है ।
तब तब अपने उनको उनके सारे दुखों से मुक्त किया है ॥ )

किया उपद्रव तारक भारी।
देवन सब मिलि तुमहिं जुहारी॥

( जब राक्षस तारकासुर ने देवताओं पर अपनी सारी शक्ति का इस्तेमाल करते हुए उनपे वॉर किया ।
तब सारे देवता मिल कर आपकी मदद मांगने आये ॥ )

तुरत षडानन आप पठायउ।
लवनिमेष महँ मारि गिरायउ॥

( तुरंत अपने उन्हें छे मुखों वाले भगवन के पास भेजा ।
जिन्होंने बिना किसी विलम्ब के तारकासुर का वध किया ॥ )

आप जलंधर असुर संहारा।
सुयश तुम्हार विदित संसारा॥

( जलंधर नाम के राक्षस को भी आप ही ने मारा ।
और इस वजह से आपको दुनिया के हर कोने में जाना जाता है ॥ )

त्रिपुरासुर सन युद्ध मचाई।
सबहिं कृपा कर लीन बचाई॥

( आपने त्रिपुरासुर से भी युद्ध किया ।
और कृपा दिखाते हुए सारे देवताओं को उसके आक्रमण से मुक्ति दिलवाई ॥ )

किया तपहिं भागीरथ भारी।
पुरब प्रतिज्ञा तसु पुरारी॥

( राजा भगीरथ ने काफी तपस्या की ।
और इसी वजह से उसकी प्रतिज्ञाओं को पूरा करने में आपने उसकी मदद की ॥ )




दानिन महं तुम सम कोउ नाहीं।
सेवक स्तुति करत सदाहीं॥

( इस दुनिया में कोई भी आप जितना दानशील नहीं है ।
और आपके भक्त हमेशा ही अपने मन में आपको याद करते हैं ॥ )

वेद नाम महिमा तव गाई।
अकथ अनादि भेद नहिं पाई॥

( महान वेदों ने भी आपकी महिमा की वर्णन करने की कोशिश की हैं ।
लेकिन, हे अनंत भगवन, वो भी आपके सार का वर्णन करने में असफल हो गए ॥ )

प्रगट उदधि मंथन में ज्वाला।
जरे सुरासुर भये विहाला॥

( सागर के मंथन से ऐसे ज्वाल का जन्म हुआ ।
जो विष से बना था और जिससे देवता और असुर दोनों ही भयभीत थे ॥ )

कीन्ह दया तहँ करी सहाई।
नीलकण्ठ तब नाम कहाई॥

( और तब, अपने सब पर करुणा दिखाते हुए उस विष को निगल लिया और तब से आपका कण्ठ नीले रंग का हो गया ।
और तभी से आपको नीलकण्ठ बुलाते हैं ॥ )

पूजन रामचंद्र जब कीन्हा।
जीत के लंक विभीषण दीन्हा॥

( जब भगवन राम ने आपकी पूजा की ।
वो लंका जीत गए और उसको रावण के भाई विभीषण को सौंप दिया ॥ )

सहस कमल में हो रहे धारी।
कीन्ह परीक्षा तबहिं पुरारी॥

( वो (भगवन राम) आपको एक हज़ार कमल समर्पित करना चाहते थे ।
और तभी अपने उनकी भक्ति का परीक्षा करने का निर्णय किया ॥ )

एक कमल प्रभु राखेउ जोई।
कमल नयन पूजन चहं सोई॥

( उन हज़ार कमलों में से एक कमल को अपने गायब कर दिया ।
और उसको ढूंढने में असफल रहे भगवन राम ने उसकी जगह अपनी एक आँख को आपको समर्पित किया ॥ )

कठिन भक्ति देखी प्रभु शंकर।
भये प्रसन्न दिए इच्छित वर॥

( उनकी ये महँ भक्ति देख कर, हे प्रभु शंकर ।
आप काफी प्रसन्न हुए और भगवान राम की सारी इच्छाओं को अपने पूरा किया ॥ )

जय जय जय अनंत अविनाशी।
करत कृपा सब के घटवासी॥

( जय जय जय हो आपकी, हे अनंत और अविनाशी भगवन ।
आप जो ब्रह्माण्ड के हर कोने में हैं, हम सब पे कृपा करें ॥ )

दुष्ट सकल नित मोहि सतावै ।
भ्रमत रहे मोहि चैन न आवै॥

( बुरे विचार मुझे रोज़ सताते हैं ।
इससे मैं पीड़ित हूँ और मुझे शांति नहीं प्राप्त है ॥ )

त्राहि त्राहि मैं नाथ पुकारो।
यहि अवसर मोहि आन उबारो॥

( मदद करें मेरी, मैं आपका नाम पुकारता हूँ भगवन ।
इसी क्षण में मैं आपके आशीर्वाद की भीख मांगता हूँ ॥ )

लै त्रिशूल शत्रुन को मारो।
संकट से मोहि आन उबारो॥

( अपने त्रिशूल से आप मेरे सारे शत्रुओं का नाश करें ।
और मुझे हर तरह के मुसीबत से मुक्ति दें ॥ )




मातु पिता भ्राता सब कोई।
संकट में पूछत नहिं कोई॥

( मेरे माता-पिता, भाई और मेरे सारे रिश्तेदार ।
मुश्किल के समय मुझे कोई भी बचा नहीं पायेगा ॥ )

स्वामी एक है आस तुम्हारी।
आय हरहु अब संकट भारी॥

( सिर्फ आप ही हैं जो मेरी रक्षा कर सकते हैं ।
कृपया आकर मेरी सारी मुश्किलें दूर करें ॥ )

धन निर्धन को देत सदाहीं।
जो कोई जांचे वो फल पाहीं॥

( आप हमेशा ही गरीब को धन का वरदान देते हैं ।
जो भी आपके नाम का जाप करता है उसको मन चाहा फल मिलता है ॥ )

अस्तुति केहि विधि करौं तुम्हारी।
क्षमहु नाथ अब चूक हमारी॥

( मैं आपको कैसे याद करूँ और कैसे आपकी पूजा करूँ, हे भगवन ।
मेरी सीमित बुद्धि और क्षमता के लिए मुझे क्षमा करें, भोलेनाथ ॥ )

शंकर हो संकट के नाशन।
मंगल कारण विघ्न विनाशन॥

( आप शंकर हैं दुःखों के नाशक ।
सकारात्मक चीज़ों के संभाजक और बाधाओं के नाशक ॥ )

योगी यति मुनि ध्यान लगावैं।
नारद शारद शीश नवावैं॥

( ऋषि, मुनि और संत सभी आप पे ध्यान करते हैं ।
यहाँ तक कि नारद मुनि और देवी सरस्वती भी आपके सामने शीश झुकाते हैं ॥ )

नमो नमो जय नमो शिवाय।
सुर ब्रह्मादिक पार न पाय॥

( मैं आपको सलाम करता हूँ, जय हो आपकी हे शिवाय ।
भगवन ब्रह्मा और सारे देवता भी आपके व्यक्तित्व का वर्णन नहीं कर सकते हैं ॥ )

जो यह पाठ करे मन लाई।
ता पर होत है शम्भु सहाई॥

( जो कोई भी इस प्रार्थना को अपने मन में गायेगा ।
वो निश्चित रूप से भगवान शम्भू की सहायता पायेगा ॥ )

ॠनिया जो कोई हो अधिकारी।
पाठ करे सो पावन हारी॥

( जो भी इस प्रार्थना को गहन प्रेम से गायेगा ।
वो भगवन शिव को समर्पित किये गए इस गाने के दुहराव से सारे सुख और संपत्ति पायेगा ॥ )

पुत्र हीन कर इच्छा कोई।
निश्चय शिव प्रसाद तेहि होई॥

( जब भी कोई निस्संतान व्यक्ति संतान की खातिर प्रार्थना करता है ।
भगवान शिव उसे निसंदेह संतान पाने का वरदान देते हैं ॥ )

पण्डित त्रयोदशी को लावे।
ध्यान पूर्वक होम करावे ॥

( जो भी त्रयोदशी के दिन एक पंडित को नियुक्त कर कर ।
शुद्ध मन से यग्न करता है ॥ )

त्रयोदशी ब्रत करे हमेशा।
तन नहीं ताके रहे कलेशा॥

( और जो भी हमेशा त्रयोदशी के दिन व्रत रखता है ।
उसका शरीर हर बीमारी से सुरक्षित रहेगा और उसका मन हमेशा के लिए शांतिपूर्ण होगा ॥ )

धूप दीप नैवेद्य चढ़ावे।
शंकर सम्मुख पाठ सुनावे॥

( जो भी भगवान शिव की पूजा दिए और धूप के साथ करेगा ।
और भगवन शिव के सुन्दर चेहरे के सामने ये प्रार्थना बार बार दोहोरायेगा ॥ )

जन्म जन्म के पाप नसावे।
अन्तवास शिवपुर में पावे॥

( उसके हर जन्म के पाप नष्ट हो जायेंगे ।
और उसे उसके जीवनकाल के अंत में भगवान शिव के नगर में शरण प्राप्त होगी ॥ )




कहे अयोध्या आस तुम्हारी।
जानि सकल दुःख हरहु हमारी॥

( अयोध्या प्रसाद, आपसे बिनती करता है, हे भगवन ।
की आप हम सब को लंबे जीवन का आशीर्वाद दें और हमारी सारी दुखों को हर लें ॥ )

॥ दोहा ॥
नित्त नेम कर प्रातः ही, पाठ करौं चालीस।
तुम मेरी मनोकामना, पूर्ण करो जगदीश॥
मगसर छठि हेमन्त ॠतु, संवत चौसठ जान।
अस्तुति चालीसा शिवहि, पूर्ण कीन कल्याण॥

( दिन के सभी कर्तव्यों को पूरा करने के बाद, मैं इस चालीस पद्य की कविता गाता हूं ।
कृपया मेरी साड़ी मनो कामनाओं को ध्यान में रखें, और उन्हें पूरा करें, हे भगवान् जगदीश ॥
शिव चालीसा गाके धयान करने से, पूर्ण पूर्ती प्राप्त होती है ।
कृपया मुझे आशीर्वाद दें, हे भगवान् शिव, ताकि मेरी सभी आध्यात्मिक और भौतिक इच्छाएं पूरी हो जाएं ॥ )

भगवान शिव की कारें जैजैकार. टाइप करें ‘ॐ नमः शिवाय’ यहाँ पर.

Method of reciting Shiv Chalisa

Reciting of the Shiv Chalisa must ideally be done after cleaning your body and your environment. Ideally, take a bath in the morning and then sit before an image of Lord Shiva to recite the Shiv Chalisa. Understand the meaning of each of the lines you are reading helps maximize the impact that the Shiv Chalisa has in your life.

Benefits of reciting Shiv Chalisa

Regular recital of the Shiv Chalisa helps you receive the blessings of the Mahadev – Lord Shiva. The benefits can be come in many forms and shapes. Shiv Chalisa will help you to –

  • Face your fears with the blessing of strength from Lord Shiva
  • Be relieved of all stresses and sorrows that plague you
  • Overcome evil thoughts and distracting temptations and find peace of mind
  • Defeat your enemies and do your best in competitions
  • Have your past sins erased and develop the ability to make righteous choices going forward in your life




शिव चालिसा का नियमित गायन करने से महादेव भगवान शिव का आशिर्वाद प्राप्त होता है। शिव चालीसा के फायदे आपको विभिन्न रूपों में प्राप्त होंगे जैसे की —-

  • भगवान् शिव आपको अपने हर डर का सामना करने की शक्ति देंगे।
  • आपको पीड़ित करने वाली सारी बाधाएं और तनाव दूर होंगे।
  • आप विनाशकारी सोचों पे विजयी होंगे और हर तरीके के लोभ से मुक्ति पाकर आपको मन की शान्ति मिलेगी।
  • आप अपने दुश्मनों को हराने की शक्ति विकसित करेंगे और हर प्रतियोगिता में अपना बेहतरीन प्रदर्शन देने में कामयाब होंगे।
  • आपके सारे पाप मिट जायेंगे और आपमें धार्मिक जीवन जीने की क्षमता विकसित होगी।




Want to read the Shiva Chalisa on your Kindle? Download Shiva Chalisa eBook from Amazon now!

A guru always guides you. Get Sai Baba’s answers to all your questions and solutions to your problems.

Shiv Chalisa PDF Downloads

Many devotees of Lord Shiva do not know that he also had a central role to play in the great Hindu epic Ramayana that goes beyond the descriptions of the Shiv Chalisa. While the Shiv Chalisa mentions that Lord Rama had worshiped Lord Shiva for his help in the battle against Ravana, it leaves out a critical detail. It is believed that Lord Hanuman was in fact an incarnation of Lord Shiva who had taken that form to assist Lord Rama in his battle against evil. Consequently you might wish to follow up the recitation of the Shiv Chalisa with the recitation of the Hanuman Chalisa. Check out our article on Hanuman Chalisa lyrics, meaning and benefits.

 



You may also like...

6 Responses

  1. Abhishek Lal says:

    Om Namah Shivaay!

  2. SONALI says:

    OM NAMAH SHIVAE

  3. divya says:

    om namah shivaye ?

  4. sonali says:

    om namah shivae

  5. Rita says:

    Mai bole baba Har Har mahadev Aap ne bigadi hai ab Aap hi banao

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *